दलितों ने किया प्रदर्शन

दलितों ने किया प्रदर्शन, केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े बोले गली के कुत्तों के प्रदर्शन में हम फंसने वाले नहीं

दलितों ने किया प्रदर्शन (कर्नाटक) : मोदी सरकार के केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े अपने बयान को लेकर एक बार फिर विवादों में है| कुछ समय पहले केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े ने संविधान तथा धर्मनिरपेक्षता को लेकर टिप्पड़ी की थी| अनंत कुमार हेगड़े शनिवार को बेल्लारी में एक रोजगार मेले में जा रहे थे तभी दलित कार्यकर्ताओ ने उनका रास्ता रोका और संविधान के ऊपर की टिप्पड़ी को लेकर विरोध प्रदर्शन किया|

बेल्लारी में ही एक कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए अनंत कुमार हेगड़े ने कहा “हम आपकी मदद करने के लिए द्रणसंकल्पित हैं और हम आपके साथ रहेंगे चाहे कुछ भी हो जाए, हम लोग अपने लोगों की रक्षा के लिए कुछ भी करेंगे, हमलोग विरोध प्रदर्शन करने वाले कुछ गली के कुत्तों में फंसने वाले नहीं है”| उनके इस बयान के बाद सोशल मीडिया पर काफी आक्रोश जताया जा रहा है|

हालाँकि ये स्पष्ट नहीं हो सका है की उनका इशारा क्या दलितों के प्रदर्शन के ऊपर था या किसी अन्य पर निशाना साध रहे थे| अनंत कुमार हेगड़े ने ऐसे शब्द चाहे किसी के लिए प्रयोग किये हो लेकिन एक संवैधानिक पद पर बैठे हुए केंद्रीय मंत्री के मुंह से ऐसे शब्द कभी स्वीकार नहीं किये जायेंगे|

ये भी पढ़े – अनंत कुमार हेगड़े : हम संविधान को बदलने आये है

गौरतलब हो की इससे पहले हेगड़े ने संविधान को लेकर टिप्पड़ी की थे जिसको लेकर काफी विवाद हुआ था| हेगड़े को उस वक़्त सदन में मांफी तक मांगनी पड़ी थी लेकिन विपक्ष उनके इस्तीफे के लिए अड़ा हुआ था| उन्होंने संविधान को लेकर कहा था कि ” यदि आप कहते हैं कि आप मुस्लिम, ईसाई आदि हैं तो मुझे गर्व है कि आप अपने धर्म,जाति के साथ संबंध रखते हैं, लेकिन ये तथाकथित धर्मनिरपेक्ष कौन हैं धर्मनिरपेक्षो की कोई जड़ नहीं है|

अनंत कुमार हेगड़े ने आगे कहा कि धर्मनिरपेक्षो को नहीं पता की उनका खून क्या है| हाँ संविधान ने हमें ये कहने का हक़ दिया है कि हम धर्मनिरपेक्ष है और हम कहेंगे| हाँ मुझे पता है कि संविधान में कई बार बदलाव किये जा चुके है हम भी बदलाव करेंगे और हम इसी लिए सत्ता में आये है”| उनकी इस टिप्पड़ी को लेकर अभी मामला शांत ही नहीं हुआ कि अब उन्होंने एक नया विवाद खड़ा कर दिया|

अपनी राय दें

avatar
3000
  Subscribe  
Notify of