अब चेन्नई में एससी/एसटी कानून में बदलाव को लेकर विभिन्न संघठनो द्वारा रेल रोको प्रदर्शन

सुप्रीम कोर्ट द्वारा एससी/एसटी कानून में बदलाव करने के आदेश का बवाल अभी तक नहीं थमा है| चेन्नई में विभिन्न संघठनो द्वारा आज रेल रोको विरोध प्रदर्शन शुरू कर किया गया है| एएनआई न्यूज़ एजेंसी के मुताबिक आज तमिलनाडु के चेन्नई में विभिन्न संघठनो द्वारा सुप्रीम कोर्ट द्वारा एससी/एसटी कानून में बदलाव करने को लेकर ‘रेल रोको प्रदर्शन’ का आयोजन किया गया|


प्रदर्शनकारियों ने बताया कि तमिलनाडु में जमीन से जुड़े राजनीतिक दल इसको लेकर (एससी/एसटी कानून में बदलाव को लेकर) एक साथ आये है| हम अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति अधिनियम में किसी भी तरह के बदलाव के विचार या कमजोर करने के सख्त खिलाफ है| गौरतलब हो की सुप्रीमकोर्ट द्वारा अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति अधिनियम में बदलाव करने को लेकर आदेश दिया था|

चेन्नई में
Image Credit Indian Express

जिसके बाद देश के विभिन्न दलित संघठनो ने 2 अप्रैल को भारत बंद बुलाकर जोरदार विरोध प्रदर्शन किया था| भारत बंद के दौरान वही देश में कई जगह हिंसक प्रदर्शन की खबरे भी सामने आयी थी| जिसमे करीब 11 लोगो की मौत भी हुई थी | वही सरकार ने भी बैकफुट पर आकर सुप्रीमकोर्ट द्वारा एससी/एसटी कानून में बदलाव को लेकर दोबारा अपील करने की घोषणा की थी| हालाँकि मामला जब सुप्रीमकोर्ट में था तब सरकार ने ही इस क़ानून के खिलाफ सुप्रीमकोर्ट में दलील दी थी|

ये भी पढ़े – बलात्कार की घटनाओ पर हेमामालिनी ने मीडिया पर ज्यादा पब्लिसिटी करने का लगाया आरोप

और आंकड़े प्रस्तुत कर कहा था कि इस कानून का कुछ दलितों द्वारा दुरूपयोग किया जा रहा है| जिसके बाद सुप्रीमकोर्ट को इस कानून में बदलाव करने का आदेश देने में आसानी हुई| वही सरकार द्वारा जब इस मामले को लेकर पुनर्विचार याचिका दायर की गई तो सरकार को सुप्रीमकोर्ट के सवालों का सामना करना पड़ा| वही दूसरी तरफ एनसीआरबी के आंकड़ों की बात की जाये तो देश में दलितों के ऊपर हो रहे अत्याचारों में कमी आने की जगह बढ़ोत्तरी हुई है | जिसको लेकर दलित समुदायों अच्छा खाशा रोष पहले से ही था|

NS Team

News Scams is a online community which provide authentic news content to its users.

अपनी राय दें

avatar
3000
  Subscribe  
Notify of