कर्नाटक उपचुनाव में बीजेपी की हार, बेल्लारी सीट पर भी मिली शिकस्त

कर्नाटक उपचुनाव
Image from Google

उपचुनावों में बीजेपी को मिल रही शिकस्त का सिलसिला जारी है। कर्नाटक उपचुनाव के सामने आये परिणाम बीजेपी के लिए हार का सबब बनें। कुल 5 सीटों पर हुए उपचुनाव (3 लोकसभा और 2 विधानसभा) में बीजेपी सिर्फ शिमोगा की लोकसभा सीट को बचाने में कामयाब रह सकी।

कर्नाटक उपचुनाव में सबसे महत्वपूर्ण बेल्लारी सीट, जिस पर डेढ़ दशक से बीजेपी का कब्ज़ा रहा वो भी उसके हाथ से निकल गई। कांग्रेस-जद (एस) के गठबंधन ने लोकसभा सीट बेल्लारी और मांड्या तथा विधानसभा की जमखंडी और रामनगरम सीट पर कब्ज़ा किया।

वहीं बीजेपी कर्नाटक उपचुनाव में सिर्फ शिमोगा लोकसभा सीट को ही हासिल करने में कामयाब रही। जीत के बाद कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने कांग्रेस-जद (एस) के कार्यकर्ताओं को बधाई देते हुए कहा कि मैं राज्य और केंद्र के कांग्रेस नेताओं को बधाई देता हूं। साथ ही मैं राज्य के जेडीएस नेताओं और कार्यकर्ताओं को बधाई देता हूं, जिन्होंने इस जीत की ओर काम किया।


बीजेपी ने जेडीएस-कांग्रेस गठबंधन को ‘अपवित्र मैत्री’ कहकर बुलाया, जिसका विवाद आज खत्म कर दिया गया। यह चुनाव पहला कदम था। राज्य में 28 लोकसभा सीटें हैं, हम उन सभी को जीतने के लिए कांग्रेस के साथ काम करेंगे, यह हमारा लक्ष्य है। यह सिर्फ खाली जीत नहीं है क्योंकि हम जीत गए है। यह लोगों में हमारा विश्वास है। यह जीत हमें लापरवाह नहीं बना रही है।

ये भी पढ़े – सबरीमाला मंदिर विवाद में सामने आया बीजेपी कनेक्शन

कुमारवामी ने टीपू सुल्तान की जयंती मनाने के विवाद को लेकर कहा कि मैंने कभी नहीं कहा कि आप टीपू सुल्तान की जयंती मनाओ या मत मनाओ। मैंने कहा था कि देश में कई समुदाय हैं, लोग अपने नेताओं की जयंती मनाते हैं। अगर बीजेपी उत्सव का हिस्सा बनना पसंद नहीं करती हैं, तो उसमें भाग लेने की कोई आवश्यकता नहीं है।

जानकारी के लिए बता दें कि कर्नाटक में टीपू सुल्तान की जयंती हर साल मनाई जाती है, जिसका विरोध बीजेपी नेता अक्सर करते दिखते है। अभी हाल में बीजेपी नेता व केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े ने टीपू सुल्तान की जयंती उत्सव का हिस्सा बनने से मना करने के लिए राज्य सरकार को पत्र लिखा था।

अपनी राय दें

avatar
3000
  Subscribe  
Notify of