पार्टी प्रचार

क्या नरेंद्र मोदी पार्टी प्रचार को लेकर पीएम पद की गरिमा को दाँव पर लगा रहे है ?

चुनाव नजदीक आते ही राजनैतिक पार्टियों के नेताओं का अपनी पार्टी का प्रचार करने को लेकर, जुबान फिसलना आम बात हो जाता है, ऐसे मामलों पर लगाम लगाने के लिए चुनाव आयोग हर बड़े नेता के बयान पर ख़ास ध्यान देता है और दोषी मिलने पर नियमानुसार कार्यवाही करता है।

देश के प्रधानमन्त्री पद पर विराजमान नरेंद्र मोदी पार्टी प्रचार को लेकर कुछ ज्यादा ही उत्तेजित हो जाते है। अपनी इसी उत्तेजना का परिचय देते हुए उन्होंने राहुल गाँधी के स्वर्गीय पिता राजीव गाँधी को निशाने पर लेते हुए उन्हें जीवनकाल भ्रष्टाचारी बताया।

उत्तरप्रदेश के लखनऊ में आयोजित एक रैली को सम्बोधित करते हुए नरेंद्र ने कहा था कि ‘ आपके पिताजी को आपके रागदरबारियों ने मिस्टर क्लीन बना दिया था। गाजे बाजे के साथ मिस्टर क्लीन बना दिया था। लेकिन देखते ही देखते भ्रष्टाचारी नंबर वन के रूप में उनका जीवनकाल समाप्त हो गया। ‘

ये भी पढ़े – कौन है आर्य ? क्या है इनका इतिहास और कहाँ बसे भारत में सबसे पहले, जानें

ऐसा पहली बार नहीं है जब पीएम मोदी ने अपने पद की गरिमा को भूलकर विपक्ष पर निशाना साधा हो।

इससे पूर्व पीएम मोदी ने मध्यप्रदेश में एक रैली को सम्बोधित करते हुए बिना किसी आधार के कांग्रेस पार्टी पर आरोप लगाया कि कांग्रेस पार्टी उनकी हत्या का सपना देखती है।

ये भी पढ़े – क्या वैदिक सभ्यता की वजह से हम उल्टा इतिहास पढ़ रहे है

हालांकि चुनाव आयोग ने पीएम के इस बयान पर आपत्ति जताई है या नहीं इसके बारे में अभी तक कोई जानकारी नहीं है बल्कि चुनाव आयोग प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी को अब तक 6 बार क्लीन चिट दे चुका है।

अपनी राय दें

avatar
3000
  Subscribe  
Notify of