डाटा लीक

डाटा लीक मामले में अमेरिका की कांग्रेस में पेश हुए मार्क ज़ुकरवर्ग

कैंब्रिज एनालिटिका द्वारा फेसबुक यूजर्स के डाटा चुराने के बाद फेसबुक के संस्थापक मार्क जुकरबर्ग की मुश्किलें कम होती नजर नहीं आ रही है| एक तरफ डाटा लीक मामले में फेसबुक को दुनिया भर से आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है तो वही दूसरी तरफ उन्हें कानूनी पचड़ो से भी गुजरना पड़ रहा है| फेसबुक के संस्थापक मार्क जुकरबर्ग को कल अमेरिकी कांग्रेस के संयुक्त सदन में पेश होना पड़ा जहाँ उन्होंने कांग्रेस सदस्यों के सवालों का सामना किया और उन्हें जवाब दिया| साथ ही उन्होंने डाटा लीक मामले में अमेरिकी सेनेट के सामने माँफी भी मांगी|

एएनआई के मुताबिक मार्क ने कहा कि हमारी जिम्मेदारी सिर्फ टूल्स बनाने की ही नहीं है बल्कि यह भी सुनिश्चित करने की है कि उनका प्रयोग अच्छे कामो के लिए भी किया जाये| हमने झूठी खबरों, चुनावों में विदेशी हस्तक्षेप और भड़काऊ भाषणों को दूर करने के लिए पर्याप्त नहीं किया| हमने अपनी जिम्मेदारियों को व्यापक नजरिये से नहीं देखा और यह एक बड़ी गलती साबित हुई थी|

यह मेरी गलती थी, और मुझे खेद है| मैंने फेसबुक शुरू किया, मैं इसे चलाता हूं और जो भी कुछ हुआ मैं इसके लिए जिम्मेदार हूँ| कैम्ब्रिज एनालिटिका ने जो किया है हम उसकी तह तक जा रहे है और जो इससे प्रभावित हुए है उनको सूचित कर रहे है| अब हमे पता चल चुका है कि उन्होंने ऍप डेवलपर के माध्यम से गलत तरीके से करोड़ो यूजर्स की सूचनाये प्राप्त की थी| इन सूचनाओं में यूजर्स के नाम,प्रोफाइल फोटो और जो पेज उन्होंने फॉलो किये थे|

ये भी पढ़े – एयरटेल ने लांच किया 499 रुपये का नया पैक जानें क्या – क्या मिलेगा

यूजर्स के डाटा की निजता और विदेशी हस्तक्षेप सबसे बड़े मुद्दे है जिनसे कंपनी ने सामना किया है और इसे ठीक करना हमारी सबसे बड़ी जिम्मेदारी है|
भारत के 2019 में होने वाले आम चुनावो को लेकर कहा कि हम आश्वस्त करते हैं कि हम भारत में आगामी चुनावों की अखंडता को बनाए रखने के लिए अपनी पूरी कोशिश करेंगे| फेसबुक संस्थापक ने उन आरोपों को भी नकारा जिसमे कहा गया था कि फेसबुक व्हाट्सप्प यूजर्स के मैसेज पर नजर रखता है| मार्क ने इस आरोप पर कहा कि फेसबुक सिस्टम व्हाट्सएप पर प्रसारित होने वाले संदेशों की सामग्री को नहीं देखता है|

अपनी राय दें

avatar
3000
  Subscribe  
Notify of