दिल्ली यूनिवर्सिटी

दिल्ली यूनिवर्सिटी को चुनाव आयोग की तरफ से नहीं दी गई थी मशीनें

दिल्ली यूनिवर्सिटी में आज छात्र संघ चुनावों के लिए ईवीएम से आज मतदान संपन्न हुआ। मतदान के दौरान ईवीएम में हुई गड़बड़ी को लेकर हंगामा भी हुआ। लेकिन इसी बीच एक खबर और है जो यूनिवर्सिटी में संपन्न हुए चुनावों को लेकर बवाल खड़ा कर सकती है।

एएनआई के मुताबिक चुनाव आयोग के अधिकारी मनोज कुमार ने बताया कि दिल्ली विश्वविद्यालय को चुनाव आयोग की तरफ से ईवीएम मुहैय्या नहीं करायी गई है।


इसकी पुष्टि राज्य के चुनाव आयोग ने भी की है कि विश्वविद्यालय को उनकी तरफ से भी ईवीएम मुहैय्या नहीं कराई गई है। ऐसा लगता है कि दिल्ली विश्वविद्यालय ने ईवीएम मशीनें खुद ही खरीदी है।

जानकारी के लिए बता दे कि दिल्ली यूनिवर्सिटी छात्र संघ के चुनाव में एबीवीपी ने बड़ी जीत हासिल की है। एबीवीपी ने अध्यक्ष, उपाध्यक्ष और संयुक्त सचिव पद पर जीत हासिल की है। अध्यक्ष पद पर एबीवीपी के अंकित बसोया, उपाध्यक्ष पद पर शक्ति सिंह और संयुक्त सचिव पद पर ज्योति चौधरी ने जीत हासिल की है।

वहीं एनएसयूआई के आकाश चौधरी ने सचिव पद पर जीत हासिल की है। वहीं दूसरी तरफ ईवीएम में गड़बड़ी को लेकर विश्वविद्यालय में आज हंगामा हुआ था। नवभारत टाइम्स के मुताबिक हंगामे की वजह थी कि ‘सेक्रेटरी पोस्ट पर एक ईवीएम में 10 नंबर के बटन से 40 वोट डाले गए।

ये भी पढ़े – संसद का पास एससी-एसटी एक्ट अब न्यायालय के आगे पंगु

जबकि मशीन में नोटा समेत सिर्फ 9 ही बटन थे।’ अब ईवीएम से यह समझने की जरूरत है कि वो 10 वां बटन कहाँ अद्रश्य था जिससे 40 वोट मशीन में डाले गए। वहीं चुनाव आयोग द्वारा मशीनें न देने की बात इस मामले में और विवाद बढ़ा सकती है।

दूसरी तरफ दिल्ली यूनिवर्सिटी द्वारा खरीदी या किराये पर ली गई मशीनें, कहाँ से ली गई थी। यह अभी जानना बाकि है। फिलहाल सोशल मीडिया पर लोग ईवीएम को लेकर तरह – तरह की चर्चाएं कर रहे है।

NS Team

News Scams is a online community which provide authentic news content to its users.

अपनी राय दें

avatar
3000
  Subscribe  
Notify of