मोदी फ्री लैपटॉप योजना एक ऑनलाइन स्कैम है

मोदी फ्री लैपटॉप योजना
Image from Google

मोदी फ्री लैपटॉप योजना एक ऑनलाइन स्कैम है। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स जैसे व्हाट्सप्प, फेसबुक, ट्विटर आदि पर यह मैसेज काफी समय से तेजी से वायरल हो रहा है। यह मैसेज दावा करता है कि केंद्र की सत्ता में बैठी मोदी सरकार लोगों को फ्री में लैपटॉप बांट रही है।

इसके लिए लोग फेसबुक व्हाट्सअप व अन्य तरह के सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स लिंक भेजते है और लिंक से जुडी हुई वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन करने के लिए कहते है। इस ऑनलाइन स्कैम से अनजान लोग उस मैसेज में लिखी हुई बातों पर यकीन कर लेते है और लिंक पर क्लिक करके वेबसाइट पर अपना रजिस्ट्रेशन भी कर देते है।

और उम्मीद लगा कर बैठ जाते है कि सरकार उनको फ्री में लैपटॉप उपलब्ध कराएगी। जबकि हकीकत यह है कि सरकार ने ऐसी कोई भी योजना अभी तक लांच ही नहीं की है। अगर आपको केंद्र सरकार की किसी योजना के बारे अगर सही रूप से जानना ही है तो आप भारत सरकार की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाए। वहां आप देख सकते है कि सरकार ने अब तक कितनी योजनाए और कब शुरू की हुई है?

क्या मिला मोदी फ्री लैपटॉप योजना की झूठी अफवाह फैलाकर?

इंटरनेट पर इस तरह की अफवाहें या स्कैम आम बात है। जाहिर है ऐसी अफवाह फैलाने वाले को भी कुछ न कुछ तो लाभ मिलता ही होगा। तो मोदी फ्री लैपटॉप योजना भी इसी आधार पर फैलाई होगी।

अफवाह फैलाने वाले को पहला तो फ्री का अपनी वेबसाइट पर ढेर सारा ट्रैफिक तथा दूसरी उनकी निजी जानकारियाँ जैसे ईमेल, मोबाइल नंबर, नाम आदि जो इंटरनेट पर आसानी से बेचीं जा सकती है।

कैसे बचे ऐसी अफवाहों से?

सरकार जब भी कोई नयी योजना शुरू करती है तो इसकी जानकारी अखबार, टीवी चैनलो आदि के माध्यम से लोगों को मुहैय्या कराती है। अब जाहिर है हर कोई तो अखबार और टीवी चैनल्स पर नजर गड़ायें नहीं रहता और कभी – कभी सरकार भी अपनी सभी योजनाओं का इतना प्रचार नहीं करती।

लेकिन अगर आपको कोई ऐसा मैसेज दिखे तो सबसे पहले उस वेबसाइट के बारे में देखे कि क्या वो सरकार द्वारा संचालित है। अगर आपको कोई शक हो तो उस योजना के बारे में इंटरनेट पर सर्च करें।

ये भी पढ़े – क्या आप पार्टी राजनीति में अवसरवादी है?

अगर आपको वहां पर सही तरीके से जानकारी न मिले तो सरकार की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाकर चेक करें कि क्या सरकार ने वाकई कोई ऐसी योजना शुरू की है। आम तौर पर सरकार अपनी योजना के नाम से कोई भी वेबसाइट नहीं बनाती। अगर फिर भी शक है तो सरकार की ऑफिसियल वेबसाइट पर देखें।

अपनी राय दें

avatar
3000
  Subscribe  
Notify of