राज्यपाल सत्यपाल मालिक ने विधानसभा भंग करने के बतायें कारण

राज्यपाल सत्यपाल मालिक
Image from Google

जम्मू – कश्मीर की विधानसभा राज्यपाल द्वारा भंग करने के बाद, उठे बवाल के बीच राज्यपाल सत्यपाल मालिक ने बताया कि आखिर उन्होंने क्यों विधानसभा को भंग किया? एएनआई के मुताबिक राज्यपाल सत्यपाल मालिक ने कहा ‘मैं राज्यपाल के रूप में अपनी नियुक्ति के दिन से यह कह रहा हूं कि मैं राज्य में गठित किसी भी ऐसी सरकार के पक्ष में नहीं हूं, जिसमें हॉर्स ट्रेडिंग (विधायकों की खरीद – फरोख्त) की गई हो।

मैं इसके बजाय चुनाव चाहता हूं। चुनाव आयोजित किया जाए और चयनित सरकार राज्य पर शासन करे। मुझे पिछले 15 दिनों से हॉर्स ट्रेडिंग की शिकायतें मिल रही हैं और विधायकों को धमकी दी जा रही है। महबूबा जी ने खुद शिकायत की थी कि उनके विधायकों को धमकी दी जा रही है। दूसरी पार्टी ने कहा कि इसमें पैसे के वितरण की योजना है।


मैं इसे होने की इजाजत नहीं दे सका। ये जो ताकतें है वो जमीनी लोकतंत्र नहीं चाहती थी और अचानक ये देखके की हमारे हाथ से चीजें निकल रही है तो एक अपवित्र सा गठजोड़ करके मेरे सामने आ गये। मैंने किसी का पक्षपात नहीं किया है। मैंने जो जम्मू – कश्मीर की जनता के पक्ष में था वो काम किया है।

राज्यपाल सत्यपाल मालिक ने फैक्स मशीन के सवाल पर कहा कि फैक्स मुद्दा नहीं है। कल ईद थी, दोनों मुस्लिम है और पता होना चाहिए कि उस दिन कार्यालय बंद रहता है। यहां तक कि मेरा खाना पकाने वाला भी कल छुट्टी पर था।

ये भी पढ़े – बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव राम माधव ने पीडीपी और एनसी के सीमा पार से जोड़े तार

इसलिए फैक्स संभालने वाले को अकेला छोड़ दो अगर मुझे फैक्स मिल भी गया होता, तो भी मेरा निर्णय वही होता। इसके अलावा राज्यपाल ने पीडीपी के कोर्ट जाने और सोशल मीडिया पर ट्वीट करके सरकार बनाने का दावा पेश करने के सवाल पर कहा कि वो कोर्ट क्यों जा रहे है? वे 5 महीनों से इसकी मांग कर रहे थे।

मैं चाहता हूँ कि वो कोर्ट जायें, ये उनका हक़ है, उन्हें जाना चाहिए। क्या सरकारें सोशल मीडिया पर बनाई जाती है? न तो मैंने ट्वीट किया और न ही कोई ट्वीट देखा। मैंने अपने निर्णय के लिए कल के दिन को चुना क्योंकि वो ईद की छुट्टी का दिन था। चुनाव आयोग निर्णय लेगा कि कब चुनाव होंगे।

अपनी राय दें

avatar
3000
  Subscribe  
Notify of