3 दलितों की

आगरा के सैयां में 3 दलितों की कुएं में फेंक हत्या, मीडिया तथा प्रसाशन ने मामले को हादसा बनाने की कोशिश

आगरा के सैयां में 3 दलितों की कुएं में फेंक हत्या

उत्तरप्रदेश में जंगल राज अपने चरम पर है। दलितों तथा पिछडो की हत्याओं का सिलसिला रुकने का नाम ही नहीं ले रहा है। इस बार आगरा के सैयां क्षेत्र के गांव सौंरा में 3 दलितों की कुएं में फेंक कर हत्या कर दी गई। घटना 14 जून के सुबह की है, जब गांव के ही सवर्ण समुदाय के लोग नाली के पानी के बहाव को लेकर आ धमके।

शुरुआत में मामला कहासुनी तथा जातिसूचक गालियों से शुरू हुआ जो देखते ही देखते हिंसा में बदल गया। वहाँ मौजूद गाँव की दलित महिलाओं तथा बच्चों को बुरी तरह पीटा गया। साथ ही गाँव के भोलू (20 वर्ष ), पप्पू (22 वर्ष) तथा लखन (18 वर्ष) को कुएं में फेंक दिया गया। यह देख गाँव में चारों तरफ चीख – पुकार का माहौल बन गया और सवर्ण समुदाय के लोग वहां से भाग खड़े हुए।

पीड़ितों ने मामले की सूचना पुलिस को दी तो वहां दमकल कर्मी पहुंचे। जिसके बाद तीनों युवकों को कुंए से निकाला गया, जिनमें से दो की मौत हो चुकी थी तथा एक की इमरजेंसी अस्पताल ले जाते वक़्त रास्ते में मौत हो गई। गाँव वालो ने मृतकों के शवों को रखकर हाईवे पर जाम कर दिया तथा पुलिस से कार्यवाही की मांग की। पुलिस ने बल पूर्वक गांव वालों से हाईवे का जाम खुलवाया।

क्या कहता है प्रसाशन

अमर उजाला की खबर के मुताबिक एसपीआरए पश्चिमी रवि कुमार ने बताया कि कुएं की सफाई के लिए उतरे तीन युवकों की जहरीली गैस की चपेट मे आने से मौत हुई है। परिजनों ने तहरीर दी है। मामले की जांच के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

क्या कहना है मृतकों के परिजनों का

मृतक की माँ कांता देवी आँखों में आंसू भरे व पिटाई के घावों को दिखाते हुए बताती है कि “घटना वाले दिन की सुबह अतर सिंह व उसके पक्ष के लोग (गाँव का सवर्ण समुदाय) आ धमकते है और जातिसूचक गालियाँ देते हुए नाली के पानी को बंद करने को कहते है। गांव वाले पूछते है कि पानी कहा जायेगा फिर, तो अतर सिंह व अन्य लोग पानी को कुएं में बहाने की कहते है।”

आगे बताती है कि “हम लोगों ने पानी को कुएं में बहाने के लिए मना किया क्यूँकि कुएं में काई जमी हुई थी और उसमे ज़हर फैला हुआ था। तो अतर सिंह पक्ष के लोग हम लोगों से कुएं को साफ़ करने को कहते है, जिसके लिए हम मना कर देते है। इससे अतर सिंह व उसके पक्ष के लोग नाराज हो जाते है और सभी लोगों के साथ मारपीट शुरू कर देते है। भोलू , पप्पू तथा लखन को कुएं में फेंककर वहां से भाग जाते है।”

पहले भी नाली के पानी के निकास को लेकर हुआ था विवाद

इससे पहले भी नालियों के पानी के निकास को लेकर विवाद हुआ था। गांव के बाहर अंतराम पक्ष का खेत है जिसमे बरसों से नालियों का पानी उनके खेतों मे जा रहा था। दो जून को अंतराम पक्ष ने खेत में मिट्टी डालकर पानी रोक दिया था।

जिसकी वजह से गाँव की गलियों में पानी भर गया। तब पुलिस ने मौके पर पहुंचकर दोनों पक्षों को शांत कराया था। इस संबंध में हाकिम सिंह व अन्य ग्रामीण तहसील खेरागढ़ भी गए थे।

मीडिया तथा प्रसाशन ने मामले को हादसा बनाने की कोशिश

तीन दलितों की इस हत्या के मामले को मीडिया तथा प्रसाशन ने हादसा बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। समाचार पत्र अमर उजाला ने हत्या के इस मामले को अख़बार तथा अपने पोर्टल पर हादसा बताया है। जिसमे लिखा है कि तीनों युवक कुंए में कंकड़ पत्थर साफ़ करने के लिए की उसमे उतरे थे। जहरीली गैस के रिसाव के कारण तीनों युवकों की मौत हो गई। इसके अलावा पत्रिका तथा नवभारत टाइम्स जैसी न्यूज़ एजेंसियों ने भी इसे हादसा बता दिया है।

अब भला नाली का पानी छोड़ने के लिए कुएं से कोई क्यों कंकड़ पत्थर बाहर निकालेगा।

इसके अलावा यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से मामले की बगैर जांच किये, मामले को मात्र हादसा मानते हुए मुआवजे की घोषणा कर दी।

भीम आर्मी के दखल के बाद सामने आया मामला

भीम आर्मी को जब इस घटना के बारे में पता चला तो वो गाँव वालो की मदद करने पहुंच गए। उन्होंने घटना पर प्रसाशन द्वारा दोषियों पर कार्यवाही न होने तथा मामले को हादसे में परिवर्तित करने को लेकर अपनी नाराजगी जताई।

भीम आर्मी के आगरा मंडल शिक्षा प्रभारी शशांक बौद्ध तथा वहां पहुंचे अन्य लोगो ने प्रसाशन से जल्द से जल्द दोषियों को पकड़ने, कड़ी से कड़ी कार्यवाही करने, ग्रामीणों की सुरक्षा तथा मृतक के परिवारों को उचित मुआवजा देने की मांग की। साथ ही प्रसाशन को चेतावनी दी की अगर दोषियों पर 2 दिन के अंदर कार्यवाही नहीं हुई तो भीम आर्मी प्रसाशन के खिलाफ आंदोलन करेगी।

लिखी गई एफआईआर लेकिन अब तक कोई गिरफ्तारी नहीं

पुलिस ने मामले में एफआईआर तो ले ली है लेकिन अब तक कोई गिरफ्तारी नहीं की है। पुलिस ने मामले में 8 लोगों को नामजद तथा 8 से 10 अज्ञात लोगों को आरोपी बनाया है। नामजदों आरोपियों में – अंतराम पुत्र अतर सिंह त्यागी, श्याम व उमेश पुत्र अन्तराम, अरविन्द पुत्र रामबाबू, खजान सिंह पुत्र नारायण सिंह त्यागी, लवकुश, सोनू, तथा मोनू पुत्र खजान सिंह के नाम है।

0 0 vote
Article Rating

NS Team

News Scams is a online community which provide authentic news content to its users.
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments